महिला कि मांग अकबर परेशान । Best Hindi Akbar Birbal Story

Hindi Akbar Birbal Story
महिला कि मांग अकबर परेशान

एक बार बादशाह अकबर के दरबार में नाच – गाना चल रहा था। बादशाह को नाचने वाली महिला का नाच – गाना इतना पसंद आया कि उन्होंने महिला को अपनी इच्छा अनुसार कुछ भी मांगने को कहां।

अकबर की यह बात सुन महिला बोली – देख लीजिए महाराज, आपने कहां है मैं जो भी मांगूंगी आप मुझे वही देंगे। कहीं आप अपनी बात से मुकर तो नहीं जाएंगे ?

किंतु अकबर ने सोचा महिला ज्यादा से ज्यादा क्या मांग लेगी ? कुछ सोने की मुद्राएं, जमीन – जायदाद आदि। तो बादशाह अकबर ने महिला की मांग पूरी करने के लिए वचन दे दिया।

बादशाह अकबर – हम तुम्हें वचन देते हैं, तुम जो भी मांगोगी तुम्हारी वही इच्छा पूर्ण की जाएगी।

Hindi Akbar Birbal Story - एक बार बादशाह अकबर के दरबार में नाच - गाना चल रहा था। बादशाह को नाचने वाली महिला का नाच - गाना इतना पसंद आया कि उन्होंने....

महिला – तो ठीक है महाराज, मैं कल सुबह आपके राज सिंहासन पर हगूंगी ( गु )।

महिला के मुख से ऐसे शब्द सुनते ही बादशाह अकबर थरथर कांपने लगा लेकिन कर भी क्या सकते थे। उन्होंने वचन जो दे दिया था। दिल पर पत्थर रखकर बादशाह को महिला की मांग पूरी करने के लिए हां कहना पड़ा। अब महिला तो चली गई लेकिन बादशाह की रातों की नींद चुरा गई। बादशाह अकबर को सारी रात नींद नहीं आई। उनके कानों में महिला के वही अपशब्द गूंज रहे थे तभी बादशाह ने आधी रात में अपने सैनिकों को आदेश दिया कि जाकर तुरंत बीरबल को बुलाकर लाए।

थोड़ी देर में बीरबल राजा के सामने उपस्थित हो जाते हैं और आधी रात में उन्हें महल में बुलाने का कारण पूछते हैं। तब बादशाह अकबर ने बीरबल को महिला के साथ हुई वार्ता का सारा ब्यौरा सुना डाला। बादशाह कि बातें सुनते ही बीरबल जोर-जोर से हंसने लगे।

बीरबल को हंसता देख अकबर क्रोधित होकर बोले – इस हंसी का क्या अर्थ है बीरबल ? क्या यह सब तुम्हें मजाक लगता है ? वह सिंहासन हमारी मान- मर्यादा सब कुछ है।

बीरबल – आप चिंता मत कीजिए महाराज, कल वही होगा जो नहीं होना चाहिए।

अगले दिन जब सभी समय पर दरबार में उपस्थित हो गए। तब महिला को भी बुलाया गया जैसे-जैसे महिला अपनी मांग पूरी करने के लिए सिंहासन की ओर बढ़ रही थी वैसे-वैसे बादशाह का दिल बैठा जा रहा था लेकिन फिर भी बादशाह को बीरबल पर पूरा विश्वास था।

महिला सिंहासन पर अपने कदम रखने ही वाली थी कि बीरबल ने उसे धीमे से आवाज लगाई और एक तरफ जाकर उस महिला से बोले – “आप अपनी मांग पूरी करने के लिए राजा के सिंहासन पर हंगने तो जा रही हैं किंतु इस बात का ध्यान रखना कि राजा से केवल आपने हंगने का वचन लिया है अगर हंगते वक्त तुम्हारे मुत का एक भी कतरा सिंहासन पर गिरा तो राजा तुम्हें फांसी की सजा देंगे”।

बीरबल की यह बात सुनते ही महिला बुरी तरह घबरा गई। अब उसे अपनी जान की फिक्र होने लगी और वह राजा से क्षमा याचना करने लगी। बादशाह ने महिला को माफ कर वहां से भगा दिया और सदैव की तरह बीरबल पर अति प्रसन्न हुए।

Related Post

मोम का शेर

बीरबल की खिचड़ी

सोने का खेत

दुनिया की सबसे बड़ी चीज क्या है ?

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.