किसान कि शिक्षा । प्रेरणादायक कहानी । Best Short Moral Story In Hindi

Short Moral Story In Hindi
किसान कि शिक्षा

एक बार की बात है, एक किसान था। जिसकी एक बहुत ही सुंदर कन्या थी। एक दिन एक नौजवान लड़का उस कन्या से शादी का प्रस्ताव लेकर किसान के पास पहुंचा। उस समय किसान खेत में ही काम कर रहा था।

किसान ने लड़के की ओर देखा और बोला – बेटा तुम खेत में जाकर खड़े हो जाओ, मैं एक – एक करके तीन बैल छोडूंगा यदि तुम इन तीनों बैलों में से किसी एक की भी पूछ पकड़ने में कामयाब हो जाओगे तो मैं तुम्हारा विवाह अपनी पुत्री से कर दूंगा।

शर्त बहुत आसान थी इसीलिए नौजवान लड़के ने एक प्यारी सी मुस्कान देते हुए किसान की शर्त कबूल ली और लड़का पूंछ पकड़ने की मुद्रा में खेत में जाकर खड़ा हो गया।

Best Short Moral Story In Hindi. Bull.

किसान ने दरवाजा खोला जिसमें से एक विशाल और भयंकर बैल बाहर निकला। बैल को देखकर लड़का भयभीत हो गया। उसने इतना विशाल बैल आज तक नहीं देखा था तभी उसने फैसला किया कि वह इस बैल की पूंछ नहीं पकड़ेगा बल्कि दूसरे बैल का इंतजार करेगा। यह सोचकर लड़का एक तरफ हो गया और बैल उसके पास से होकर गुजर गया।

किसान ने दूसरा दरवाजा खोला लेकिन यह क्या इस बार तो पहले से भी विशाल और भयंकर बैल था। भय के मारे वह सोचने लगा कि इससे तो पहले वाला ही ठीक था। लड़के ने इसे भी छोड़ देने की सलाह बनाई और वह बैल भी लड़के के पास से आकर गुजर गया।

अंत में किसान ने तीसरा दरवाजा खोला इस बार लड़के के चेहरे पर मुस्कान दौड़ पड़ी क्योंकि अबकी बार उसके सामने एक पतला – दुबला और मरियल बैल था। लड़के ने उसकी पूंछ सही से पकड़ने के लिए मुद्रा बनाई और जैसे ही बैल उसके पास पहुंचा लड़के ने देखा कि उस बैल की तो पूछ ही नहीं है।

कुछ इसी प्रकार की हमारी जिंदगी है, जिसमें अवसर आते हैं और हमारी आंखों के आगे से चले जाते हैं। यह हमारा भय ही है कि हम उन्हें पहचान नहीं पाते और डर कर बैठ जाते हैं। हमेशा प्रथम अवसर को हासिल करने का प्रयास करना चाहिए, क्या पता वह अवसर दुबारा नहीं मिले।

अतः हमारी जिंदगी अवसरों से भरी पड़ी है।

इन्हे भी पढ़े

नैतिकता पर 3 सर्वश्रेष्ठ शिक्षाप्रद कहानियां

अपाहिज कि संवेदनशीलता

दुनिया की सबसे बड़ी चीज क्या है ?

बीरबल की खिचड़ी: सम्पूर्ण लघुकथा:

सोने का खेत

मोम का शेर

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.